क्या कभी किसी लड़के को माहवारी होने के बारे में सुना है? निर्देशक मोजेज सिंह एक लड़के के नजरिए से समाज में निषेध माने जाने वाले विषय के बारे में सोचने पर मजबूर कर देते हैं।

उनका कहना है कि जब मशहूर हस्तियां कुछ निश्चित मुद्दों के बारे में बात करती हैं, तो लोग उनकी बातों पर गौर फरमाते हैं।

मोजेज ने एक ईमेल साक्षात्कार में आईएएनएस को बताया, मैं इस मुद्दे (माहवारी) पर फिल्म बनाने और अपने स्टार पावर से इसका समर्थन करने के लिए अक्षय कुमार और ट्विंकल खन्ना को सलाम करता हूं। जब उनके जैसी मशहूर हस्तियां इस बारे में बात करती हैं तो फर्क पड़ता है क्योंकि लोग उनकी बातों पर गौर फरमाते हैं।

ट्विंकल खन्ना और अक्षय कुमार ने माहवारी स्वच्छता पर आधारित फिल्म ‘पैडमैन’ बनाई थी।

26 मई को विश्व माहवारी दिवस पर रिलीज ‘फर्स्ट पीरियड’ ने मासिक चक्र के विषय को एक दिलचस्प और अनोखे नजरिए से पेश किया है।

मोजेज ने बताया कि उन्होंने सबसे पहले यह फिल्म ट्विंकल को दिखाई और वह इसे समर्थन देने के लिए तैयार हो गईं क्योंकि उन्हें लगा कि यह सही इरादे के साथ बना है।

फिल्म के लिए प्रेरणा के बारे में मोजेज ने बताया कि उन्हें यह फिल्म बनाने का प्रस्ताव एनजीओ दसरा से मिला। वे माहवारी स्वच्छता के लिए काम करते हैं और उनके पास पटकथा लेकर आएं, जहां पुरुष इस विषय पर चर्चा में शामिल होंगे।

मोजेज ने कहा कि पटकथा लेखिका ईशानी बनर्जी और वह एक ऐसी अवधारणा के साथ आएं, जहां महिलाओं के बजाय पुरुष माहवारी प्रक्रिया से गुजरते हैं और इसमें दिखाया गया है कि कैसे बेहतरीन तरीके से वे इससे निबटते हैं।

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds