बॉलीवुड सिनेमा अपनी प्रेम कहानियों के लिए खासकर जाना जाता है। बॉलीवुड ने प्रेम कहानियों को पर्दे पर उतारने में विशेषज्ञता हासिल कर ली है। सौ साल के मनोरंजन के इस माध्यम – फ़िल्म इतिहास को देखने से ढेर सारी प्रेम कहानियाँ सबको देखने को मिलेंगी। बॉलीवुड प्यार के हर रंग को लगभग छू चुका है और यह लिस्ट उन अलग रंगों के बारे में ही है जब बॉलीवुड ने प्यार के केवल गुलाबी रंग को ही नहीं परोसा किन्तु कुछ हटकर भी परोसा है।

ये वो फ़िल्में हैं जिनमें प्यार तो दिखाया गया है, लेकिन बॉलीवुड के आम अंदाज़ में नहीं बल्कि एक अलग ही अंदाज़ में:

1. द लंच बॉक्स!

Image result for द लंच बॉक्स
Credit: Blogger

बहुत कम फ़िल्में होती हैं जिन्हें आलोचक सराहते नहीं थकते और बॉक्स आफ़िस पर भी उन्हें मनचाहा प्यार मिलता है। द लंच बॉक्स भी उन्हीं फ़िल्मों में से एक है। 2013 में रिलीज़ हुई यह फ़िल्म अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी खूब सराही गई थी। यह कहानी है दो ज़िन्दगियों की जहाँ एक इंसान जो रिटायर होने वाला है और एक पत्नी जिसकी शादी-शुदा ज़िंदगी से प्यार जा चुका है।एक डिब्बेवाले की ग़लती के कारण दोनों किरदारों की चिट्ठी के ज़रिए बातचीत शुरू हो जाती है और कुछ समय बाद यही ग़लती अनदेखे प्यार की शक़्ल ले लेती है।

2. चीनी कम!

Image result for चीनी कम
Credit: Navbharat

हिन्दी फ़िल्मों में 64 साल के हीरो को 34 साल की हीरोईन से प्यार हो जाता है और जब ऐसा होता है तब चीनी कम बनती है जिसमें प्यार की मिठास तो मौजूद है लेकिन थोड़ी-सी कम।

3. दम लगा के हईशा!

Image result for दम लगा के हईशा
Credit: naidunia

जैसा कि भारत में कई बार होता है कि शादी पहले हो जाती है फिर बच्चे हो जाने के बाद प्यार हो ही जाता है। फ़िल्म दम लगा के हईशा में भी ऐसा ही कुछ हुआ है। शादी तो हो गई लेकिन उनमें प्यार नहीं हुआ। पत्नी की कोशिश रहती है कि वो अपनी पति को अपने प्यार की गिरफ़्त में ले लें, लेकिन पति को उनका बेडोल शरीर ही पसंद नहीं।

4. हाइवे!

Image result for हाइवे फिल्म
Credit: Patrika

हाईवे मुख्यत: प्यार की कहानी नहीं है। यह कहानी है पहली बार आज़ादी को महसूस करने की, हवाओं को छूने की, सड़कों पर सवारी की और कुल मिलाकर ज़िंदगी को जीने की। एक अमीर बाप की बेटी “वीरा” की शादी होने ही वाली थी लेकिन एक दिन पहले ही उनका अपहरण हो जाता है। अपहरणकर्ता को वीरा के बारे में ख़ास जानकारी नहीं होती है। गंभीर परिस्थितियों से बचने के लिए वो वीरा को लेकर शहर दर शहर भागता रहता है, यह सफ़र ही हाइवे है।

5. द जेपनीस वाइफ!

Image result for द जेपनीस वाइफ
Credit: Amazon

फिल्म द जेपनीस वाइफ की कहानी है स्नेहमोय चटर्जी और मियागे के बारे में जिनकी आपस में शादी चिट्ठियों के द्वारा ही हो। स्नेहमोय भारत में रहते थे और मियागे एक जापानी थीं। दोनों न कभी एक दूसरे से मिले थे, न ही उन्होंने कभी एक दूसरे की आवाज़ सुनी थी। कहानी के अंत में स्नेहमोय की मृत्यु हो जाती है और मियागे एक हिन्दु विधवा की ज़िंदगी जीने लगती हैं।

Share

वीडियो