1861 से चला आ रहा भारतीय कागज़ की मुद्रा का सफर बहुत ही रोचक है!

1861 से चला आ रहा भारतीय कागज़ की मुद्रा का सफर बहुत ही रोचक है!

भारतीय मुद्रा (Currency) में हाल ही में बहुत से बदलाव किए गए हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि वास्तव में भारतीय मुद्रा का विकास कैसे हुआ? आपको यह जानकर हैरानी होगी कि भारत में कागज़ की मुद्रा पहली बार ...

106 साल की आयु में भी मज़ेदार खाना बनाती है यह ‘यू टयूबर’ महिला!

106 साल की आयु में भी मज़ेदार खाना बनाती है यह ‘यू टयूबर’ महिला!

मिलिए आंध्र प्रदेश की रहनेवाली 106 वर्षीय मस्तानअम्मा से, जो देश की सब से अधिक आयु वाली ‘यू टयूबर’ महिला हैं! उन की आयु के ज़्यादातर लोग जीवन से मुह मोड़ लेते हैं लेकिन मस्तानअम्मा को पता है कि खुश ...

न खान, न कपूर, बाज़ी मार गए 5 अन्य फिल्मी सितारे!

न खान, न कपूर, बाज़ी मार गए 5 अन्य फिल्मी सितारे!

बहुत कम लोगों ही इतने प्रतिभाशाली होते हैं जिन्हें बॉलीवुड फिल्मों में काम करने का अवसर मिलता है, और वह कुछ ऐसी फिल्में बना देते हैं, जिन्हें सदियों तक भुलाया नहीं जा सकता. उन के कठिन परिश्रम का डंका पूरे ...

नेपाल के एक पिता ने अपने बेटे को भारतीय सेना में शामिल होने के लिए अपने जेब से ₹400 चोरी करने दिए

नेपाल के एक पिता ने अपने बेटे को भारतीय सेना में शामिल होने के लिए अपने जेब से ₹400 चोरी करने दिए

हम भारतीय हमारे देश में सुरक्षित है क्योंकि हमारी सेना अपने परिवारों और प्रियजनों से दूर हमारी और देश की रक्षा करती है. जीवन भर के लिए देश की सेवा करने और अपने आप को समर्पित करने का कदम उठाने ...

कोलकाता आज और कल का अद्भुत मिश्रण – सुंदर ट्राम में डाइनर से एक रोमांटिक और यादगार अनुभव

कोलकाता आज और कल का अद्भुत मिश्रण – सुंदर ट्राम में डाइनर से एक रोमांटिक और यादगार अनुभव

कोलकाता की मनोहर ट्राम्स जो कि वहाँ की सांस्कृतिक धरोहर हैं, उन में भोजन करना लोगों के लिए एक रूमानी और कभी न भूलने वाला अनुभव प्रदान करता है. जब भी आप कोलकाता, जिसे कि “सिटी ऑफ़ जॉय” (उल्हास का ...

आश्चर्यजनक: छत्तीसगढ़ में एक जोड़े ने अपनी बेटी का नाम जी एस टी क्यों रखा

आश्चर्यजनक: छत्तीसगढ़ में एक जोड़े ने अपनी बेटी का नाम जी एस टी क्यों रखा

एक नवजात शिशु को देश में घट रही घटनाओं का कुछ ज्ञान नहीं होता, किन्तु यह एक घटना इस नन्ही सी बच्ची को जीवन भर याद रहेगी. 1 जुलाई, 2017 का दिन केवल इसलिए महत्वपूर्ण नहीं है कि इस दिन ...

कोई हाथ नहीं? कोई बात नहीं! कैसे इस युवक ने इस त्रासदी पर विजय पाई और एक तैराकी चैंपियन बन गया

कोई हाथ नहीं? कोई बात नहीं! कैसे इस युवक ने इस त्रासदी पर विजय पाई और एक तैराकी चैंपियन बन गया

केवल शारीरिक क्षमता से सफलता का निर्धारण नहीं किया जा सकता है. सफलता के लिए नैतिक चरित्र, साहस, दृढ़ संकल्प और प्रतिबद्धता की आवश्यकता होती है. दस वर्ष की उम्र में दोनों हाथों को खोने के बावजूद, विश्वासने तैराकी चैंपियन ...

यहां कर्मचारी हेलमेट पहनकर करते है काम, वजह हैरान करने वाली है

यहां कर्मचारी हेलमेट पहनकर करते है काम, वजह हैरान करने वाली है

इस सरकारी इमारत की हालत इतनी जर्जर है कि कर्मचारियों को मोटरबाइक की हेलमेट पहनकर काम करना पड़ता है। पता नहीं कब छत का कोई हिस्सा ऊपर आ गिरे। क्या आपको लगता है कि सरकारी संस्था में काम करना बोरियत ...