रिपोर्ट: वरिष्ठ पदों पर लैंगिक असमानता अब भी एक बड़ी समस्या!

रिपोर्ट: वरिष्ठ पदों पर लैंगिक असमानता अब भी एक बड़ी समस्या!

भारत में कामकाजी महिलाओं की संख्या में बढ़ोत्तरी के बावजूद लैंगिक असमानता, विशेषकर वरिष्ठ पदों पर, अभी भी एक बड़ी समस्या बनी हुई है।  एक सर्वेक्षण के मुताबिक 16% संगठनों के निदेशक मंडल में कोई महिला नहीं है। वहीं 47% ...

सिनेमा अपना ‘साहित्य’ खुद गढ़ रहा है : स्वानंद किरकिरे

सिनेमा अपना ‘साहित्य’ खुद गढ़ रहा है : स्वानंद किरकिरे

तीन वर्षों के भीतर दो बार सर्वश्रेष्ठ गीतकार का राष्ट्रीय पुरस्कार हांसिल करने वाले “अलहदा नगमानिगार स्वानंद किरकिरे” का कहना है कि वर्तमान दौर में फिल्में अपना साहित्य खुद गढ़ रही हैं और अब अच्छे सिनेमा को साहित्य की दरकार ...

जालियांवाला बाग: कुछ नए तरीकों से वीर सपूतों की गाथा सुनाएगी पंजाब सरकार!

जालियांवाला बाग: कुछ नए तरीकों से वीर सपूतों की गाथा सुनाएगी पंजाब सरकार!

सौ बरस बीते, पर उन लम्हों की आग आज भी धू धू कर धधकती है, जब बेदर्द अंग्रेज हुक्मरानों ने तीन तरफ मकानों से घिरे एक मैदान में हिंदुस्तानियों की निहत्थी भीड़ को गोलियों से भून डाला था। बाहर जाने ...

पोलियो: ख़तरा अभी टला नहीं, टीकाकरण पर देना होगा ध्यान!

पोलियो: ख़तरा अभी टला नहीं, टीकाकरण पर देना होगा ध्यान!

जनवरी 2011 के बाद देश में पोलियो का एक भी नया मामला सामने नहीं आया है लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि खतरा अभी टला नहीं है और पंगु बना देने वाली इस बीमारी की रोकथाम के लिए टीकाकरण पर ...

ऑटिज़्म से जंग जीतने की जद्दोजहद, ऐसे बच्चों में ज्यादा होता है इसका ख़तरा!

ऑटिज़्म से जंग जीतने की जद्दोजहद, ऐसे बच्चों में ज्यादा होता है इसका ख़तरा!

रौनक और शोर शराबे के शौकीन लोग अकसर सड़क के आसपास अपना घर बनाने का सपना देखते हैं, लेकिन ऐसे लोगों को थोड़ा चौकन्ना होने की जरूरत है क्योंकि ऐसी जगहों पर रहने वालों के बच्चों में ऑटिज्म होने का ...

गोलीबारी के बीच बरकरार है उम्मीद—भारत-पाक सीमा का एक गाँव जो सुनाता है संघर्ष और शांति की गाथा!

गोलीबारी के बीच बरकरार है उम्मीद—भारत-पाक सीमा का एक गाँव जो सुनाता है संघर्ष और शांति की गाथा!

जहां गोलीबारी रोजमर्रा की चीज़ बन गई हो, वहां चैन की नींद भला किसे आ सकती है? असीमित समस्याओं के बावजूद भी ज़िंदगी आगे बढ़ती है और उम्मीद तब भी बरकरार रहती है। यह कहानी है चार पीढ़ियों की, जो पीढ़ी ...

मीडिया और सरकार:  क्या पीएम के मरहम के बाद सवालों से बच पाएगी बीजेपी सरकार?

मीडिया और सरकार: क्या पीएम के मरहम के बाद सवालों से बच पाएगी बीजेपी सरकार?

क्या सरकार आलोचनाओं से घबरा गई है? या आर्थिक मोर्चे पर विफलताओं की चर्चाओं से डरी हुई है? या फिर आंदोलनों को लेकर जवाब दे पाने की स्थिति में नहीं है? यदि नहीं तो सरकार की ओर से कैसे प्रेस/मीडिया ...

अच्छे अंकों के लिए देर रात नहीं करें पढ़ाई

अच्छे अंकों के लिए देर रात नहीं करें पढ़ाई

न्यूयॉर्क, 30 मार्च (आईएएनएस)| विद्यार्थियों द्वारा देर रात तक अध्ययन करने से खराब अंक आने की संभावना रहती है। ऐसे में विद्यार्थियों के अध्ययन के लिए प्राकृतिक रूप से समय का निर्धारण करना बेहतर होता है। ऐसे विद्यार्थी, जिनकी समय ...

1920 से अब तक 10 फीसदी बढ़ा सहारा मरुस्थल : शोध

1920 से अब तक 10 फीसदी बढ़ा सहारा मरुस्थल : शोध

न्यूयार्क, 31 मार्च (आईएएनएस)| अफ्रीका महाद्वीप में स्थित दुनिया के सबसे बड़े मरुस्थल सहारा के क्षेत्रफल में मानव जनित जलवायु परिवर्तन के कारण 1920 से अब तक 10 फीसदी की वृद्धि हो चुकी है। भारतीय मूल के एक वैज्ञानिक सहित ...

‘बैंक सखी’ से महिलाएं हो रहीं सशक्त

‘बैंक सखी’ से महिलाएं हो रहीं सशक्त

राजनांदगांव, 30 मार्च (आईएएनएस)| देश में जिस तरह बैंकिंग के सर्वोच्च प्रबंधकीय पदों तक पहुंचकर चंदा कोचर, शिखा शर्मा, अरुंधति भट्टाचार्य जैसी महिलाएं बैंकिंग को नई दिशा दे रही हैं, उसका लघु रूप राजनांदगांव के उन ग्रामीण क्षेत्रों में दिखता ...